यूपी ऑनलाइन भूलेख कैसे देखें? जमीन का नक्शा, जमाबंदी

9

भूलेख आज ऐसा विषय बन चूका है जिसके बारे में आपको जानकारी होना आवश्यक है। क्योंकि यदि आपके पास जरा सी भी प्रॉपर्टी है तो कभी न कभी आपको भुलेख खसरा खतौनी जैसे डाक्यूमेंट्स से पाला पड़ने वाला है। ऐसे में यदि आपको भुलेख के बारे में जानकारी होगी तो आपको किसी ऑफिस के चक्कर नही लगाने होगे आप घर बैठे ही अपने या अपने किसी सगे सम्बन्धी की भुलेख खसरा खतौनी की जानकारी निकाल सकेगें। आमतौर पर बहुत से लोग भूलेख के बारे में जानना चाहते है, लेकिन उन्हें सही जानकारी नही मिल पाती है। इसीलिए आज के पोस्ट में हम आपको भूलेख के बारे में जानकारी देने वाले है।

इस पोस्ट के माध्यम से आपको उत्तर प्रदेश के भूलेख क्या है? यूपी भुलेख ऑनलाइन कैसे चेक करें के बारे में जानकारी प्राप्त होगी। यह आर्टिकल पढने के बाद आपका भुलेख सम्बन्धी कोई सवाल नही बचेगा। आपको भुलेख से जुडी पूरी जानकारी प्राप्त हो जाएगी। तो आइए सबसे पहले हम भूलेख क्या होता है इसके बारे में जान लेते है।

भूलेख क्या होता है?

हम आपको आगे भूमि के बारे में लिखित रूप में जानकारी दे रहे है इसे अच्छेसे पढ़िए ताकि इसके बारे में आप अच्छेसे जान पाए। दोस्तो भूलेख को अलग अलग राज्यों में अलग अलग नामो से जाना जाता है जैसे की – भूमि का ब्यौरा, जमाबंदी, भूमि अभिलेख, खेत के कागजात, खेत का नक्शा, खाता, इत्यादि और भी बहुत ऐसे नाम है जो लोग अपने अपने हिसाब से जोड़ते है।

सबसे पहले यह जान लीजिए कि पहले उत्तर प्रदेश में पहले यह सब जानकारी निकलने में काफी वक्त लग जाता था जिसके कारण लोग बहुत परेशान हो जाते थे। बहुत से लोगो को यह समस्या होती थी इसीलिए इसी समस्या का समाधान करने के लिए भूलेख का रिकॉर्ड मैनेज करने के उद्देश्य से इसका भूलेख पोर्टल खतौनी को कंप्यूटरीकृत किया गया है ताकि आगे अब किसी को परेशानी का सामना न करना पड़े।

इस उपाय की मदद से अब भू-अभिलेखों का रोजना की सभी गतिविधियों का ब्यौरा सुव्यवस्थित करना आसान हो गया है अब कोई भी यह आसानी से जान पाता है। यदि आप चाहो तो भूलेख पोर्टल खतौनी की सभी जानकारी आप ऑनलाइन प्रकिया करके आसानी से  प्राप्त कर सकते है। और साथ ही आप घर बअपने क्षेत्र के पटवारी से भी भूलेख की जानकारी मिल जाती है।

ऑनलाइन भूलेख के लाभ क्या हैं?

 

up bhulekh online in hindi

वैसे तो भूलेख के कई सारे लाभ है, परंतु हम आपको उनमे से कुछ जरूरी लाभ बताने वाले है। तो चलिए अब हम आपको उत्तर प्रदेश के भूलेख योजना के लाभ बताते है।

1. सबसे पहला लाभ यह है कि आप उत्तर प्रदेश भूलेख ऑनलाइन पोर्टल का इस्तेमाल कर सकते है ताकि आप अपनी संपत्ति के बारे में पूरी जानकारी आसानी से प्राप्त कर पाए और आप इससे अपना दावा कर सकते हैं।

2. दूसरा जरूरी लाभ यह है कि आप घर बैठे अपना जमीन का रिकॉर्ड ऑनलाइन प्राप्त कर सकते हैं। आपको भूमि रिकॉर्ड के संबंध में पटवारी कार्यालय का दौरा नहीं करना पड़ेगा।

3. इसका तीसरा मुख्य लाभ यह है कि आप ऑनलाइन पोर्टल पर जाने के बाद आप अपना बहुत समय और पैसा बचा सकते हैं।

4. डिजिटल इंडिया मिशन के अनुसार, भारत सरकार, केंद्र और राज्य सरकारें डिजिटल रूप में भूमि के रिकॉर्ड को आसानी से ऑनलाइन उपलब्ध रखेंगी।

5. आप अपने जमीन और खेत के सभी विवरण आसानी से ऑनलाइन प्रक्रिया द्वारा डाउनलोड कर सकते हैं।

उत्तर प्रदेश ऑनलाइन भूलेख कैसे देखें?

बहुत से लोगो को ऑनलाइन भूलेख देखना नही आता है, परंतु आज इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप आसानी से ऑनलाइन भूलेख देखना सिख जाओगे। चलिए अब हम आपको ऑनलाइन भूलेख देखने की प्रकिया बताते है।

आपको अब नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करना है जिससे आप उत्तर प्रदेश के ऑनलाइन भूलेख देख सकते है।

1. यह सबसे पहली स्टेप है सबसे पहले आपको सरकारी विभाग upbhulekh.gov.in के आधिकारिक पोर्टल पर जाना होगा। आप चाहें तो यहाँ क्लीक करके डायरेक्ट जा सकतें हैं।

2. पहली स्टेप पूरी करने के बाद, आपको दूसरी स्टेप में “खतौनी (अधिकार रिकॉर्ड) देखकर उस लिंक पर क्लिक करना है।

3. जैसे ही आप तीसरे स्टेप पर आते है वैसे ही आपको एक कैप्चा दिखाई देगा। और फिर आपको दिखाए गए कैप्चा कोड को दर्ज करना होगा। सबमिट बटन पर क्लिक करने से पहले, आपको पुष्टि करनी चाहिए कि कोड सही है क्योंकि यह संवेदनशील होता है। यदि आप गलत कैप्चा डालते है तो आपको सबमिशन में रुकावट आती है।

4. अब दी गई तालिका में अपना Janpat स्थान चुनें।

5. अब दिए गए तालिका में अपना जिला चुनें।

6. उसके बाद आप अपना गांव चुन सकते हैं।

7. उसके बाद आपको भरने के लिए नया पेज दिखाई देगा अपना खाता संख्या, खसरा नंबर।

ऑफ़लाइन भूलेख कैसे देखे –

दोस्तो यदि आप चाहो तो आप ऑफ़लाइन भूलेख या खतौनी को जन सुविधा केंद्र से भी निकलवा सकते है, या फिर आप ऑफिस जाकर निकलवा सकतें हैं। यहाँ पर आपको खुद जाना होता है और अपनी खेत का खसरा नम्बर देना होता है। ऑफिस से आप भुलेख की प्रमाणित प्रतिलिप प्राप्त कर सकतें हैं। साथ ही आप जन सुविधा केंद्र से भी प्रमाणित प्रतिलिप प्राप्त कर सकतें हैं। हालाँकि आप सिटिज़न पोर्टल से प्रमाणित प्रतिलिप प्राप्त करने के लिए आवेदन कर सकतें हैं और आपको 7 दिनों के अन्दर प्रमाणित प्रतिलिप मिल जाएगी लेकिन यह प्रक्रिया थोड़ी लम्बी है।

जन सेवा केंद्र सरकार के द्वारा संचालित फ्रंचायेजी के माध्यम से चलती है. अगर आपके पास खसर नम्बर नहीं है तो आप गाटा संख्या से भी निकलवा सकते है, अगर आपके पास वह भी नहीं है तो आप फर्द को नाम तथा पिता के नाम के भी निकलवा सकते है।

Conclusion –

दोस्तो हमने आपको ऊपर के पॉइंट्स में भूलेख क्या होता है और उत्तर प्रदेश के बारे में पूरी तरह से जानकारी दे दी है। आप इस जानकारी को पढ़कर आसानी से भूलेख के बारे में सिख सकते है। यदि आपको यह लेख पसंद आता है तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे ताकि यह महत्वपूर्ण जानकारी और भी लोगो तक पहुंच सके।

9 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here