क्या किराएदार मकान पर कब्जा कर सकता है? |जानिये क्या है नियम

आज के दौर में लोग पढ़ाई करने या फिर नौकरी करके एक्स्ट्रा इनकम कमाने के चक्कर में दूसरे शहरों अथवा राज्य में जाते हैं ऐसी स्थिति में उनके पास रहने के लिए खुद का घर नहीं होता जिसकी वजह से वह किराए के घर को ढूंढते हैं जहां पर वह रहकर बेफिक्र होकर अपनी पढ़ाई और नौकरी कर सकें। लगभग हर शहर में ऐसे लोग हैं जो कमाई करने के लिए अपना घर अथवा घर के कमरे किराए पर बाहर से आए लोगों के लिए देते हैं।

जिसके बदले में मकान मालिक किराएदारओं से भाड़े के तौर पर हर महीने पैसे लेते है लेकिन मकान मालिकों के सामने समस्या तब उत्पन्न होती है जब कोई किराएदार लंबे समय तक उस घर में रह रहा हो और उस मकान को अपनी संपत्ति साबित करने में लगा हो। इस स्थिति में मकान मालिक को अपना मकान खाली करवाने के लिए कई प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

ऐसे बहुत से लोग हैं जो यह जानना चाहते हैं कि क्या किराएदार मकान पर कब्जा कर सकता है? (Can the tenant occupy the House?) यदि आप भी इस विषय में जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारा यह लेख पढ़ रहे हैं तो यह लेख आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होने वाला है क्योंकि यहां हम आपको क्या करें कि किराएदार प्रॉपर्टी पर ओनरशिप क्लेम ना कर सके? के विषय में विस्तारपूर्वक बताने जा रहे है।

 क्या किराएदार मकान पर कब्जा कर सकता है?

अगर आप जानना चाहते हो कि क्या किराएदार मकान पर कब्जा कर सकता है? तो हम आपको बता दें कि चाहे कोई व्यक्ति कितने भी समय से किराए पर आपकी किसी भी तरह की प्रॉपर्टी जैसे- दुकान, मकान में क्यों न निवास करता हो वह खुद को आपकी प्रॉपर्टी मालिक के रूप में प्रस्तुत नहीं कर सकता है लेकिन अगर कोई व्यक्ति ऐसा करता है तो भारतीय संविधान के अंतर्गत किराएदार के खिलाफ सक्त कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

क्या किराएदार मकान पर कब्जा कर सकता है जानिये क्या है नियम

क्योंकि भारत संविधान में ऐसा कोई नियम नहीं है जिसमें कोई भी व्यक्ति किसी भी किराए की प्रॉपर्टी को अपनी प्रॉपर्टी घोषित करके उसका मालिक बन बैठे। जब तक वह व्यक्ति उस प्रॉपर्टी को असली प्रॉपर्टी मालिक से नहीं खरीदेगा तब तक वह किराए की प्रॉपर्टी का मालिक नहीं बन सकता है। अर्थात कोई भी व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति की प्रॉपर्टी को खरीदें बिना जबरदस्ती उस प्रॉपर्टी का मालिक होने का दावा नहीं कर सकता है.

अगर कोई व्यक्ति किराए की प्रॉपर्टी पर खुद का मालिकाना हक जताता है तो उसे यह सिद्ध करना होगा और अगर वह व्यक्ति यह सही नहीं हुआ तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इसलिए कोई व्यक्ति चाहे 50 वर्षो से किराए पर क्यों न रहे रहा हो वह आपकी प्रॉपर्टी पर कब्जा नही कर सकता है।

इन परिस्थितियों में मकान मालिक को गंवाना पड़ सकता है मकान

जैसा कि हम आपको पहले बता चुके हैं कि भारत संविधान में कोई भी ऐसा कानून और नियम नहीं है जिसके अंतर्गत कोई भी किराएदार कितने भी लंबे समय से किसी मकान में क्यों ना रह रहा हो लेकिन वह उसका मालिक कभी नहीं बन सकता है लेकिन वर्तमान समय में बहुत सारे ऐसे केस देखने को मिले हैं जिनमें किराएदार के द्वारा मकान मालिक के ऊपर केस किया गया है और किराएदार को ही मकान का मालिक घोषित किया गया है।

ऐसा इसलिए होता है कि जब कोई प्रॉपर्टी मालिक अपने मकान को किसी व्यक्ति को लंबे समय के लिए किराए पर देता है वह मकान पर ध्यान नहीं दे पाता और उसकी इसी लापरवाही के कारण मकान मालिक को अपनी प्रॉपर्टी से हाथ धोना पड़ता है। ऐसे बहुत से कारण है जिन परिस्थितियों में मकान मालिक को अपना मकान या प्रॉपर्टी करवानी पड़ती है।

कभी-कभी मकान मालिक के पास मकान के सभी दस्तावेज नहीं होते ऐसी स्थिति में किराएदार के द्वारा मकान को अपना बताया जाने पर असली मालिक को अपना मालिकाना हक साबित करने में काफी मुश्किलें आती हैं और ज्यादातर मकान मालिकों को अपना मकान खोना पड़ता है। इसलिए अगर आप चाहते हैं कि भविष्य में आपको ऐसी परिस्थिति का सामना करना ना पड़े तो हम आपको क्या करें कि किराएदार प्रॉपर्टी पर ओनरशिप क्लेम ना कर सके? के बारे में कुछ जरूरी जानकारी बताने जा रहे हैं जिसके बाद कोई भी किराएदार आपकी प्रॉपर्टी को ना तो हड़प्पा आएगा और ना ही उसका मालिक होने का डाबा कर सकेगा।

क्या करें कि किराएदार संपत्ति पर स्वामित्व दावा ना कर सके?

यदि आप भी अपने मकान को लंबे समय से किसी व्यक्ति को किराए पर दिए हुए हैं और आप भी किराएदार से संबंधित झंझटो से बचना चाहते हैं तो आप की सुविधा के लिए हमने नीचे कुछ महत्वपूर्ण बातें बताई हैं जिनका पालन करके आप अपने मकान को किराएदार से बचा सकेंगे।

  • किराएदार के द्वारा प्रॉपर्टी का मालिकाना हक तभी साबित होता है जब प्रॉपर्टी मालिक के पास प्रॉपर्टी के कानूनी दस्तावेज उपलब्ध नहीं होते इसलिए ऐसी प्रॉपर्टी को आपको किराए पर नहीं देना है और अगर आप अपनी प्रॉपर्टी को किराए पर देना चाहते हैं तो पहले सभी जरूरी दस्तावेज बनवा लें.
  • जिस व्यक्ति को आप अपना मकान फ्लैट या अपार्टमेंट किराए पर दे रहे हैं उससे पहले उस व्यक्ति के बैकग्राउंड के बारे में अच्छी तरह से जांच पड़ताल कर लें।
  • मकान किराए देने से पहले यह बात जरूर याद रखें कि आपको किराएदार के साथ रेंट एग्रीमेंट जरूर बनवाना चाहिए जिसमें साफ-साफ लिखा हो कि 1 साल के अंदर भाड़ा ना देने पर मकान खाली करना होगा। साथ ही आप प्रतिवर्ष रेंट एग्रीमेंट रिन्यू भी करवाते रहें।
  • आप किराएदार के साथ जो एग्रीमेंट तैयार करा रहे हैं उसके एक्सपायर होने से 5 से 10 दिन पहले ही नया एग्रीमेंट बनवा लेना चाहिए।
  • इसके अलावा आपने अपना जो मकान, फ्लैट किराए पर दिया है उस पर समय-समय पर ध्यान जरूर दें क्योंकि ध्यान ना देने की वजह से ही किराएदार के द्वारा मकान पर कब्जा किए जाने की संभावना अधिक होती है।

क्या किराएदार मकान पर कब्जा कर सकता है? सम्बंधित प्रश्न उत्तर FAQs

क्या करें जब किराएदार मकान पर कब्जा कर ले?

अगर किराएदार आपके मकान पर कब्जा कर ले तो सर्वप्रथम आपको पुलिस स्टेशन में कंप्लेंट कर के मकान खाली कराने का प्रयास करना चाहिए यदि इससे भी बात ना बने तो आप किराएदार के खिलाफ कोर्ट में केस कर सकते हो।

क्या 30 सालों से एक मकान में रहने वाला किराएदार मकान मालिक होने का दावा कर सकता है?

जी नहीं, जब तक मकान मालिक अपने मकान को नहीं भेजता अथवा उसके पास सभी जरूरी दस्तावेज मौजूद हैं तब तक किराएदार उस मकान का मालिक होने का दावा नहीं कर सकता है।

रेंट एग्रीमेंट किसे कहते हैं?

जब कोई मकान मालिक अपने घर को किसी व्यक्ति को किराए पर देता है तो रेंट एग्रीमेंट तैयार कराया जाता है जिसमें मकान मालिक के द्वारा किराएदार को कितने समय के लिए मकान भाड़े पर दिया गया है तथा मकान का किराया क्या होगा इत्यादि जानकारी लिखी होती है।

रेंट एग्रीमेंट करवाना क्यों जरूरी है?

अगर भविष्य में मकान या किराएदार से संबंधित कोई समस्या उत्पन्न होती है तोरा एग्रीमेंट के पेपर के द्वारा आप किराएदार के खिलाफ केस करके अपने पक्ष में कानूनी फैसला प्राप्त कर सकते हैं।

क्या किराएदार मकान पर कब्जा कर सकता है?

जी नहीं, कोई भी किराएदार फिर चाहे वह 50 वर्षों से ही एक ही मकान में क्यों ना रहा हो मकान पर कब्जा नहीं कर सकता और अगर कोई व्यक्ति ऐसा करता है तो उसके खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाती है।

निष्कर्ष

आज हमने आप सभी को अपने इस आर्टिकल के माध्यम से क्या किराएदार मकान पर कब्जा कर सकता है? के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की है साथ ही हमने आपको बताया है कि किन परिस्थितियों में किराएदार मकान का मालिक बन सकता है। आशा करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा पुलिस टॉप अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो आपसे विनम्र अनुरोध है कि आप हमारे इस लेख को अपने दोस्तों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन में कमेंट करके अपने विचार हमारे साथ

Leave a Comment